www.poetrytadka.com

chup rahna bhi

चुप रहना भी एक तहज़ीब है संस्कारो की !
लेकिन कुछ लोग हमे बेजुबां समझते हैं !!

हिन्दी शायरी