www.poetrytadka.com

chand to nahi

इतना गुरुर भी अच्छा नही !
चाँद जैसी हो चाँद तो नहीं !!