www.poetrytadka.com

chand sikko me bikta hai

chand sikko me bikta hai

चंद सिक्कों में बिकता है यहाँ इंसान का ज़मीर !
कौन कहता है मेरे मुल्क में महंगाई बहुत है !!