www.poetrytadka.com

Chai Par Shayari

मोहब्बत करना चाय से सीखे है 
कैसी भी हो खुश होकर पीते है
Mohabbat karna chai se seekhe hain
kaisi bhi ho khush hokar peete hain.

तेरे दिए जख्म साथ है, 
किसने कहा हम अकेले चाय पीते है.
Tere diye jakhm sath hain,
kisne kaha hum akele chai peete hain.

Chai Par Shayari