www.poetrytadka.com

chabhiya mere gharki

chabhiya mere gharki
एक ही ख्वाब देखा है कई बार मेने !
तेरी साडी में उलझी है चाबियां मेरे घर की !!