www.poetrytadka.com

bolne se pahle

बोलने से पेहले लफ्ज़ आदमी के गुलाम होते हैं !
लेकिन बोलने के बाद इंसान अपने लफ़्ज़ों का गुलाम बन जाता हैँ !!