www.poetrytadka.com

bina zurm kesjzaae mout

हादसोँ के गवाह हम भी हैँ अपने दिल से तबाह हम भी हैँ !
बीना जुर्म के सजा-ए-मौत मिली ऐसे एक बेगुनाह हम भी हैँ !!