www.poetrytadka.com

bikta bhi nahi hai

किसी टूटे हुए मकान की तरह हो गया है ये दिल !
कोई रहता भी नहीं और कंबख्त बिकता भी नहीं !!