www.poetrytadka.com

Bhut zalim ho

Last Updated

बहुत ज़ालिम हो तुम भी मुहब्बत ऐसे करते हो

जैसे घर के पिंजरे में परिंदा पाल रखा हो

bhut zalim ho