www.poetrytadka.com

Bhut shuoq tha

बहुत शौक था सब को जोङ के रखने का !
होश तब आया जब अपने वजूद के टुकङे देखे !!