www.poetrytadka.com

Bhut guroor tha mujhe us

बहुत गरूर था मुझे उस सख्स पर
जिसे में मोहबत करता था !
कमबख्त ने मोहबत को इस तरह बिखेरा
की समेटने का भी मन नही किया !!