www.poetrytadka.com

bhut andar tak tbahi

बहुत अन्दर तक तबाही मचाता है !
वो आंसू जो आँखों से बह नहीं पाता !!