www.poetrytadka.com

bhool kar bhi

भूल कर बोहब्बत की जंगल में ना जाना तुम 

यहा सांप नहीं इन्सान डसते है