www.poetrytadka.com

BHAROSE KI SJA

डूबा है मेरा बदन मेरे ही लहू में !
ये कांच के टुकड़ो पे भरोसे की सज़ा है !!