www.poetrytadka.com

Bharosa he kuch aisa tha

Last Updated

निगाहों में अभी तक दूसरा कोई चेहरा ही नहीं आया

भरोसा ही कुछ ऐसा था तुम्हारे लौट आने का