www.poetrytadka.com

bewfai shayari sangrah

bewfai shayari sangrah

हुस्न पर जब भी मस्ती छाती है,तब शायरी पर बहार आती है

पीके महबूब के बदन की शराब, जिंदगी झूम-झूम जाती है