www.poetrytadka.com

bewfa ki aasme

जुल्मो सितम सहते रहे एक बेवफा की आस मे !
डुबो दिया मुझे दरिया ने दो घूट की प्यास में !!