www.poetrytadka.com

bekar mat smajhna

जिदंगी मे कभी भी किसी को बेकार मत समझना क्योँ !
कि बंद पडी घडी भी दिन में दो बार सही समय बताती है !!