www.poetrytadka.com

Bda shouk tha

बड़ा शाैक था उसे मेरा आशियाना देखने का !
जब देखी मेरी गरीबी तो rasta बदल लिया !!