www.poetrytadka.com

Bas tu hi smai hai

Last Updated
बस तू ही समाई है मेरी ये निगाहे खामोश मै !
अब जिन्दगी से मूझे कया चाहिऐ जब तूम हो मेरी आगोश मे !
खो जाऐ एक दूसरे मे इस कदर के दोनो ना रहे हम होश मे !!