www.poetrytadka.com

bas teri kmi hai

दर्द की शाम है....आखों मे नमी है !
हर सांस कह रही है...बस तेरी कमी है !!