www.poetrytadka.com

Barso ki chahat ko

कैसे भुलायेगा वो मेरी बरसो की चाहत को !
दरीया अगर सुख भी जाये तो रेत से नमीं नहीं जाती !!