www.poetrytadka.com

barasne ke baad

तुझसे मैँ इजहार-ए-मोहब्बत इसलिए भी नही करता !
सुना है बरसने के बाद बादलो की अहमियत नही रहती !!