www.poetrytadka.com

bankar bunden

लफ्ज जब बरसते हैँ बनकर बुँदेँ !
मौसम कोई भी हो मन भीग ही जाता है !!