Badi mushkil se

बड़े मुश्किल होते हैं वो लम्हे कसम से,
जिनमे तू खफा हो जाया करता है...
साँस अटकी, धड़कन रुकी सी रहती है,
बड़ा बुरा सा हाल हो जाया करता है...
ये जो तेरी आदत सी हो गयी है मुझे,
उसी का शायद तू फ़ायदा उठाया करता है...
हम शायद इतने सियाह हो चुके है तेरे लिए,
जो अब हमसे ताल्लुक को फ़िज़ूल बताया करता है...
अब तू बहुत ज़्यादा ही ना रूठ जाए कहीं,
ज़हन मे बस यही ख्याल आया-जाया करता है...
Romantic Shayari

कृपया शेयर जरूर करें

Read More