www.poetrytadka.com

badi hashin ho tum

बडी हसीन हो तुम
रोज आईने पर यूं सितम ना ढाया करो !
माना मिलना सही नहीं दुनिया की नजरों में हमारा !
कभी कभी सपनों में तो आ जाया करो !!