www.poetrytadka.com

Badal simatke chad ke baho me aagya

एहसासे इश्क़ ग़म की पनाहों में आ गया !
बादल सिमट के चाँद की बाहों में आ गया !
इज़हारे इश्क़ मेंने किसी से नहीं किया !
और बेसबब जहां की निगाहों में आ गया !!