www.poetrytadka.com

Bachpan me jaha chahe

Last Updated

बचपन में जहाँ चाहा हँस लेते थे 

जहाँ चाहा रो लेते थे और अब 

मुश्कान को तमीज चाहिए 

 

और आंसुओं को तन्हाई 

bachpan me jaha chahe