www.poetrytadka.com

bachpan bhi kmal ka tha

बचपन भी कमाल का था खेलते खेलते चाहें छत पर
सोयें या ज़मीन पर, आँख बिस्तर पर ही खुलती थी !!