www.poetrytadka.com

baat hai zmane ki

जफ़ा के जिक्र पे तुम कयूँ संभल के बैठ गये !
तुम्हारी बात नहीं बात है जमाने की !!