www.poetrytadka.com

azab siyasat

हवाओं की भी अपनी अजब सियासतें हैं !
कहीं बुझी राख भड़का दे कहीं जलते चिराग बुझा दे !!