www.poetrytadka.com

apno ko mnana hai zra deer lgegi

तुम होते कोइ दुश्मन तो बात ही क्या थी !
अपनो को मनाना है, जरा देर लगेंगी.!!