www.poetrytadka.com

apne hamdard ko

बदलते इंसानों की बात हमसे न पूछो !
हमने अपने हमदर्द को हमारा दर्द बनते देखा है !!