www.poetrytadka.com

Apne dukho pe

अपने दुखो पे रोना  अपनी खुशियों पे रोना, क्या कुछ सिखा जाता है किसी से जुदा होना।

Apne dukho pe