www.poetrytadka.com

aksar whi log

अक्सर वही लोग उठाते हैं हम पर उँगलियाँ !
जिनकी औकात नही होती हमे छूने की !!