www.poetrytadka.com

aksar baithe baithe khud se rooth jata hoon

अक्सर बैठे -बैठे खुद से ही मैं रूठ जाता हूँ !
एक तेरे ना होने के ख्याल से मैं टूट जाता हूँ !!