www.poetrytadka.com

agar sukun milta

अगर सुकुन मिलता है उसे हम से जुदा होकर !
तो दुआ है ख़ुदा से.कि उसे कभी हम ना मिलें !!