www.poetrytadka.com

ae khuda ek tera hi dr hai

लोगो ने कुछ दिया,तो सुनाया भी बहुत कुछ I
ऐ खुदा एक तेरा ही दर है,जहा कभी ताना नहीं मिला II