www.poetrytadka.com

Adhoori aas

" एक आस अधूरी सी
इन बूढी आँखों में
दिखती है
जिसको रखा कोख में
वो संतान ही अब
दूरी रखती है