www.poetrytadka.com

adab se mere sath

adab se mere sath

हर इक ग़म बैठा रहता है अदब से मेरे आगे

लगा रहता है दिल में रोज़ ही दरबार मेरा