www.poetrytadka.com

Abstak Magar Hai Baqi

यूनान-ओ-मिस्र-ओ-रूमा सब मिट गए जहाँ से !
अब तक मगर है बाक़ी नाम-ओ-निशाँ हमारा !!