www.poetrytadka.com

abhi sisha hoo sabki aankho me

अभी शीशा हूँ सबकी आँखों में चुभता हूँ !
जब आईना बनूँगा सारा जहाँ देखेगा !!