www.poetrytadka.com

ab tere liae hu aznabi ho gae

अब तो तेरे लिये हम अजनबी हो गये !
बातों के सिलसिले भी कम हो गये !
खुशियो से ज्यादा गम हो गये !
क्या पता ये वक्त बुरा हे या बुरे हम हो गये !!