www.poetrytadka.com

ab bhi hshin sapne aankho me pal

अब भी हसीन सपने आँखों में पल रहे हैं !
पलकें हैं बंद फिर भी आँसू निकल रहे हैं !
नींदें कहाँ से आएँ बिस्तर पे करवटें ही !
वहाँ तुम बदल रहे हो यहाँ हम बदल रहे हैं !!