www.poetrytadka.com

aaz jo nafrat hai

अब जो नफरत की है तो निभाना इसे !
कहीं ये भी मोहब्बत की तरह अधूरी न रह जाए !!