www.poetrytadka.com

Aavaz di mujhe

मुद्दत के बाद उसने जो आवाज़ दी मुझे
कदमों की क्या बिसात थी सांसें ठहर गयी