www.poetrytadka.com

aaj phir baithe hai

आज फिर बैठे है...हिचकियों के इन्तज़ार में !
देखें तो सही वो कब याद करते हैं !!