www.poetrytadka.com

Aaj kaal

उलझे हुए है अपनी उलझनो मे आज कल !
तुम ये मत समझना की अब वो चाहत नहीं रही !!