www.poetrytadka.com

aaj bhir mere ghar me

आज फिर मेरे घर मे कांच ही कांच. बिखरे है I
खफा थे आइने से, तेरा अक्स बार बार दिखता था II