www.poetrytadka.com

aaj bhi ilzam hai

अधूरी हसरतों का आज भी इलज़ाम है तुम पर !
अगर तुम चाहते तो ये मोहब्बत ख़त्म ना होती !!